मनु भाकर का जीवन परिचय, Manu Bhaker Biography in Hindi

By | April 10, 2018

मनु भाकर का जीवन परिचय, Manu Bhaker Biography in Hindiरविवार को मेक्सिको के ग्वाडलाजारा में अंतरराष्ट्रीय शूटिंग स्पोर्ट फ़ेडरेशन (आईएसएसएफ) विश्व कप में महिला 10 मीटर एयर पिस्टल स्वर्ण पदक जीतने वाली महिला मनु भाकर ने इतिहास पुस्तकों में अपना नाम स्वर्ण अक्षरों से लिख दिया। विश्व कप के स्वर्ण पदक जीतने के लिए वे भारत की सबसे कम उम्र की और शायद विश्व की तीसरी सबसे छोटी शूटर बन गई हैं ।आयी इस सबसे कम उम्र की महिला खिलाडी मनु भाकर का जीवन परिचय देखते हैं।

राइफल शूटर गगन नारंग और पिस्तूल के शूटर राही सरनोबट क्रमश: 2006 और 2013 में 23 वें स्थान पर भारत के सबसे कम उम्र के विश्व कप स्वर्ण पदक विजेता थे। सिंगापुर के राइफल शूटर लिंडसे वेलसो और संयुक्त राज्य अमेरिका के शॉटगननर विंसेंट हैनकॉक ने 15 साल की उम्र में विश्व कप में स्वर्ण पदक जीता था।

झज्जर की रहने वाली लड़की, जिन्होंने सिर्फ दो साल पहले शूटिंग शुरू की थी, ने नाटकीय ढंग से एक मामूली 0.4 अंक अंतर से स्थानीय पसंदीदा अलेजांड्रा जवाला वाजाक़ेस को हराकर फाइनल में 237.5 रन बनाए। आलमजेंड्रा जो की एक विश्व कप और वर्ल्ड कप फाइनल की स्वर्ण पदक विजेता हैं और 1998 के बाद से शूटिंग कर रही है, आपको यह जानकार हेरानी होगी की मनु के जन्म से ४ साल पहले से शूटिंग कर रही हैं

मनु भाकर को 2016 में अपने स्कूल में शूटिंग करनी शुरू की । गोरीया गांव में यूनिवर्सल सीनियर सेकेंडरी स्कूल झज्जर जिले में एक शूटिंग रेंज के लिए एकमात्र जगह है। शूटिंग रेंज अपने निवास से 25 किमी दूर है और वहां पर लगभग पांच घंटे तक शूटिंग करती हैं।

प्रतिस्पर्धा शुरू करने के दो सालों के भीतर, मनु सभी तीन श्रेणियों में राष्ट्रीय चैंपियन बन गए – वह युवा (यू -18), जूनियर (यू -21) और सीनियर – में पिछले साल दिसंबर में राष्ट्रीय चैंपियनशिप के 15 पदक के साथ भाग लेने के लिए योगय होगयी थी।

मनु ने 24-शॉट फाइनल में करीब 1.5 अंक की बढत हासिल कर ली थी। मनु की सबसे ख़ास बात यह है की वह बिना घबराये और बिना बड़े सत्तर की प्रतिस्पर्धा की परवाह करे बिना एक दम सटीक निशाना लगाती हैं

पिता ने घर में ही बनवाई शूटिंग रेंज
निशानेबाजी के शौक को जुनून बनाया तो पिता ने उसके शोक को आगे बढ़ाने के लिए घर पर ही शूटिंग रेंज बना दी। जसपाल राणा से निशाने के गुर सिखवाये।

मनु की कम उम्र मैं स्वर्ण पदक जीतने के साथ , मनु की जीत इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह तीन ओलंपिक (सेलीन गॉबविल, अन्ना कोरक्काई और हेइडी डायथेलम) और कई विश्व कप जीतने वाले  मेडल्स के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करते हुए आया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *