बुखार का घरेलू इलाज | Natural Home Remedies for Fever in Hindi

By | September 13, 2017

Bukhar kam karne ke Gharelu Upaye | Natural Home Remedies for Fever

बुखार का घरेलू इलाज

मौसम बदलता है और इसका असर हमारे शरीर पर होता है| खांसी सर्दी और बुखार आना साधारण सी बात है| खान पान पर धयान न देने से रोग प्रतिरोधक शक्ति कम हो जाती है| ऐसी वैसी चीज़ खाने से भी पेट में इन्फेक्शन होने से बुखार आ जाता है| यदि किसी साधारण कारण से आपको बुखार आ जाये तो बुखार का देसी इलाज जो हम आपको बताने जा रहे हैं उनका उपयोग करें| इन घरेलू नुस्खों से आप घर पे ही इस बीमारी का इलाज कर सकते हैं| कभी कभी टाइफाइड. टी बी जैसी घातक बीमारी के कारण भी बुखार आ जाता है| अगर दो दिन में बुखार कम न हो और बुखार 103 से ऊपर हो जाये, तो ऐसी हालत में घरेलू नुस्खे पे निर्भर न रहें| तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाईये और इलाज करवाईये|

बुखार के कारण और लक्षण(Bhukhar Ke karan) | Fever Symptoms and Reasons

बुखार को ठीक करने के घरेलू नुस्खे बताने से पहले हम आपको यह बताना ज़रूरी समझते हैं की आपको बुखार किस वजा से हुआ है ताकि आप वो गलती दुबारा न दोहराएं| शरीर में बैक्टीरिआ के प्रवेश से शरीर की इम्युनिटी बढ़ जाती है और बैक्टीरिआ से लड़ाई करने लगती है| ऐसे में बुखार हो जाता है| बहुत ज्यादा थकान के कारण भी बुखार आ जाता है | कभी कभी ठण्ड लगती है और वयक्ति कांपने लगता है, बेचैनी लग जाती है| पुरे बदन में दर्द रहता है| भूख नहीं लगती, सुस्ती रहती है| बुखार हो तो ऐसे में तुरंत कुछ न कुछ उपाए तो करना ही चाहिए, ऐसे में आप घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करें| बुखार को ठीक करने के घरेलू उपचा कुछ इस प्रकार हैं|

ठंडा पानी | Cold Water

तापमान को कम करने के लिए नल के ठन्डे पानी में स्पंज भिगोएं और अतिरिक्त पानी बाहर निकल दें और फिर स्पंज को आप अपने बगल, पैर, हाथ और गले से लगा दें। इसके अलावा, आप अपने माथे पर और अपनी गर्दन के पीछे भी रख सकते हैं| कुछ देर के बाद स्पंज को नियमित रूप से बदलना चाहिए। यह उपाय उच्च बुखार से निपटने में फायदेमंद होता है क्योंकि इससे तापमान में नियंत्रण रखने में मदद मिलती है। आप अपने शरीर को आराम करने के लिए गुनगुने पानी में स्नान भी कर सकते हैं। हालांकि यह एक अच्छा विचार नहीं हो सकता है, इसके अलावा, कहने की जरूरत नहीं है, जितना संभव हो उतना आराम लेना चाहिए क्योंकि यह हमारे शरीर को बीमारी से लड़ने में मदद करता है।

नोट: बहुत ठंडे पानी का उपयोग न करें क्योंकि इससे आंतरिक शरीर का तापमान बढ़ सकता है।

तुलसी | Basil

तुलसी बुखार नीचे लाने के लिए एक प्रभावी जड़ी बूटी है| यह जड़ीबूटी बस बाजार में कई तरह के एंटीबायोटिक दवाओं के रूप में प्रभावी है। इसकी चिकित्सा गुणों में बुखार को बहुत जल्दी से कम करने में मदद मिलेगी। एक कप पानी में 20 तुलसी के पत्तों और एक चम्मच अदरक कुचलकर उबाल लें, जब तक कि मिश्रण समाधान कम न हो जाए| थोड़ा शहद भी मिलाएं और तीन दिनों के लिए दिन में दो या तीन बार इस चाय को पीएं।

उबलते पानी के एक कप में एक चौथाई चम्मच काली मिर्च के साथ तुलसी के एक चम्मच को मिलाकर चाय बनाओ। जब तक आप पूरी तरह से ठीक नहीं होते तब तक दो या तीन बार इसे पीएं।

लहसुन | Garlic

पसीने को बढ़ावा देने के द्वारा लहसुन की गर्म प्रकृति भी उच्च बुखार को कम कर सकती है| इससे शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद मिलती है। इसके अलावा, लहसुन एक एंटिफंगल और जीवाणुरोधी एजेंट है जो शरीर से संक्रमण के साथ-साथ रोग से बचाता है। एक लहसुन लौंग को गर्म पानी में मिलाएं| इसे 10 मिनट तक उबलने दें और फिर इस पानी को धीरे धीरे पियें| इसे एक दिन में दो बार पियें और आप अगले दिन बेहतर महसूस करेंगे।

नोट: गर्भवती महिलाओं और छोटे बच्चों के लिए लहसुन के उपचार की सिफारिश नहीं की जाती है|

किशमिश | Raisins

किशमिश शरीर में संक्रमण से लड़ने और बुखार को कम करने में मदद करता है। एक घंटे के लिए आधा कप पानी में 25 किशमिश मिलाएं (किशमिश नरम हो जाने तक)| फिर उसे अच्छी तरह से मैश कर लीजिये| इसमें आधा कप चावल का रस भी मिलाएं और दिन में दो बार लें जब तक की आपका बुखार चला न जाये|

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *